Ruminations

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी|

Advertisements